ट्वीटर पर मेरा अनुसरण करें!

गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

तुम भी अपना मतलब निकाल लो

धोखेबाजों की कमी नही है इस जहान में, 
हो सके तो तुम भी अपना मतलब निकाल लो|

मुझे तेरी हार जीत से क्या मतलब,
किसी तरह तेज भाग कर खुद को निकाल लो|

सभी धोखेबाज आज बन गए हैं रहनुमा..
ईमानदार बनना है तो चिल्ला कर अपना गला फाड़ लो|

भारत  माँ कराहती रहती है, अनसुना कर दिल को,
खुद को पुराने जमींदारों, नबाबों, अंग्रेजों, मुगलों सा ढाल लो|

किसी की चीखने की आवाज पर मत जाना,
मानवता नही खुद की सोचो! डरो! अब अपने अपने घरों को भाग लो|

जब मन आये सोने का नाटक करो...
जब खुदपर बन आये तो तुरंत जाग लो|

11 टिप्‍पणियां:

  1. आदत अपनी छोड़ के, बोले मीठे बोल ।

    निश्चित मानो शख्स वो, धोखा देकर गोल ।।

    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
    http://dineshkidillagi.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  2. शुक्रवार के मंच पर, तव प्रस्तुति उत्कृष्ट ।

    सादर आमंत्रित करूँ, तनिक डालिए दृष्ट ।।

    charchamanch.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  3. सभी धोखेबाज आज बन गए हैं रहनुमा../
    katu satya

    जवाब देंहटाएं
  4. सभी धोखेबाज आज बन गए हैं रहनुमा../
    katu satya

    जवाब देंहटाएं
  5. धोखेबाजों की कमी नही है इस जहान में,
    हो सके तो तुम भी अपना मतलब निकाल लो|
    बहुत खूब चन्दन भैया.........आज के भयभीत व् स्वार्थी इंसान का यही चेहरा है....बहुत बढ़िया चित्रण |

    जवाब देंहटाएं