ट्वीटर पर मेरा अनुसरण करें!

रविवार, 14 अगस्त 2011

पत्थरों का दर्द

अरे! सुनो, इस पत्थर के शहर में हम भी रहते हैं|

पत्थर अपना दुःख मुझसे कहते हैं|

वो टूट कर बिखरते रहें हैं...सदियों से|

किसी पे नही थोपी उसने अपनी कहानी,

पत्थर तो अपना दुःख खुद ही सहते हैं,

और हम हैं की खामोश लोगों को पत्थर कहते हैं|